No Widgets found in the Sidebar

Libra and Sagittarius Compatibility in Hindi: हिन्दू धर्म के अनुसार कुल 12 राशियां होती हैं जो की निम्न हैं- मेष, वृषभ, मिथुन, कर्क, सिंह, कन्या, तुला, वृश्चिक, धनु, मकर, कुंभ, और मीन।  हमारे हिन्दू धर्म में शादियों से पहले लड़के-लड़कियों के राशि की अनुकलता देखा जाता है , इससे यह समझा या अनुमान लगाया जाता है कि दोनों का वैवाहिक जीवन कैसा रहेगा। 

इस लेख में हम जानेंगे कि तुला और धनु राशि की अनुकूलता कैसी होती है।  हम जानेंगे कि दोनों राशियों के बीच प्रेम सम्बन्ध, दोस्ती, बोलचाल या संचार, इत्यादि कैसा रहता है। 

हिन्दू धर्म में शादी को बहुत ही पावन विश्वशनीय रिश्ता माना जाता है , और क्यों न माना जाये आखिर पति-पत्नी को एक दूसरे के साथ पूरा जीवन बिताना होता है।  शायद इसीलिए शादी के पहले राशियों कि अनुकूलता को बहुत ही गंभीरता से लिया जाता है। 

यदि आप भी जानना चाहते हैं कि तुला और धनु राशियों की अनुकूलता (Tula and Dhanu Compatibility in Hindi) कैसी होती है और ये दोनों राशियों का जीवन कैसा रहता है तो यह लेख निश्चित रूप से आपके लिए बहुत उपयोगी साबित होगी !

तुला और धनु राशि अनुकूलता (Libra and Sagittarius Compatibility in Hindi)

Video Credit- Astro Science

हम तुला और धनु राशि की अनुकूलता को निम्न 5 चरणों में जानेंगे, जो हैं:

  1. मैत्री अनुकूलता 
  2. प्रेम समंधो में अनुकूलता 
  3. शारीरिक अनुकूलता। 
  4. संचार (बात-चीत) में अनुकूलता। 
  5. और समंध युक्तियाँ। 

मैत्री अनुकूलता (Libra and Sagittarius Friendship Compatibility)

तुला वायु राशि है जिसका स्वामी शुक्र है और धनु अग्नि राशि है जिसका स्वामी गुरु है।  यदि इस पहलु से देखा जाये तो हवा हमेशा आग को फैला कर और मजबूत बनती है जिससे इसका अनुमान लगाया जा सकता है की तुला राशि हमेशा मैत्री को बढ़ावा देगा तथा धनु राशि उसको स्वीकार कर और अधिक प्रगाढ़ बनाएगा। अतः तुला और धनु राशि की मित्रता बहुत ही घनिष्ठ और कठिन होती है। इनके बीच मैत्री का रिश्ता दोनों के आपसी तालमेल से चलता है। हालाँकि दोनों का मैत्री रिश्ता तुला राशि से संचालित होता है, किन्तु धनु शायद ही कभी नियंत्रण से बाहर महसूस करता है। इसप्रकार दोनों ही राशियों के बीच एक बहुत ही ऊर्जावान बंधन साझा होता है जो की तुला और धनु मित्रता की अनुकूलता को बेहद मजबूत बनाता है।

मित्रता में आरम्भकर्ता के रूप में तुला आगे रहता है जबकि धनु तुला के विचारों को अपनी आवश्यकताओं के अनुसार अनुकूलित कर लेता है , जिससे दोनों के बीच मैत्री सम्बन्ध अच्छे से चलता है। तुला राशि के लोग नए विचारों को क्रियान्वित करने के बारे में सोचते रहते हैं जबकि धनु परिवर्तनशील होता है, यह इन विचारों को अपनी आवश्यकता के अनुसार अनुकूलित कर सकता है। 

प्रेम समंधो में अनुकूलता (Libra and Sagittarius Love Compatibility)

तुला और धनु राशियों के बीच प्रेम समंध काफी अच्छा रहता है।  दोनों के बीच काफी तालमेल होता है, जैसा की ऊपर बताया गया है की तुला वायु और धनु अग्नि राशि होती है, इसलिए जब दोनों के बीच प्रेम सम्बन्ध होता है तो वह बहुत ही दृढ और समय के साथ बढ़ता जाने वाला होता है। 

वायु स्वाभाव होने के नाते तुला राशि रिश्ते में उत्साह लाता है और अग्नि स्वभाव होने के नाते धनु इसमें दृढ़ता और ज्ञान लाता  है। दोनों राशियों के बीच में आपस में काफी सामंजस्य होने की वजह से दोनों एक दूसरे से अपनी बातें साझा करते है जिससे इनके बीच प्रेम समंध और भी मजबूत होता है। कभी कभी दोनों में आपसी तालमेल में गड़बड़ की वजह से चीजे बिगड़ सकती है परन्तु दोनों की आपसी बातचीत करने की प्रकृति की वजह से गड़बड़ आसानी से निवारित हो जाती है। तो कुल मिलाकर यदि तुला और धनु के बीच प्रेम अनुकूलता की बात करें तो ये बहुत ही अच्छा और प्रगाढ़ होता है।  दो आपसी सामजस्य से अपने प्रेम रिश्ते को और भी मजबूत बनाते हैं। 

शारीरिक सम्न्धों में अनुकूलता 

तुला और धनु में प्रेम समंधो की भांति ही शारीरिक अनुकूलता बहुत ही अच्छी होती है।  दोनों के बीच शायद ही कभी शारीरिक समाधो को लेकर बात बिगड़ती है।  दोनों काफी मेलजोल से रहते हैं जिससे एक धनु और तुला युगल एक सहज साथी बन पाते हैं। 

आपसी तालमेल और जरूरतों को समझने की प्रवित्ति के कारण दोनों बीच रिश्ते काफी अच्छे और सहज होतें हैं। 

संचार या बातचीत में अनुकूलता (Compatibility in Communication)

संचार या बातचीत में अनुकूलता मुख्यतः इस बात पर निर्भर करती है की तुला और धनु राशि वाले लोग मिलकर आपस में किस प्रकार का संतुलन बनाते हैं। तुला राशि वाले पर शुक्र का शासन होने के नाते वे स्त्री के गुण रखते हैं और वहीँ धनु राशि पर बृहस्पति पुरुष गुणों के साथ शासन करता है। इसलिए ये सामान्यतः संतुलित होते हैं और इन्हे बस इस संतुलन को अपनी बातचीत के माध्यम से बनाये रखना होता है।  

तुला और धनु (Libra and Sagittarius) राशि वाली जोड़ी सामान्यतः बातचीत में माहिर होती है।  जोड़ी आपस में बातचीत करके आपसी सामंजस्य बनाए में कामयाब रहते हैं। हालांकि, इनके बीच कई बार टकराव हो सकता है यदि वे आपने अहंकार के वश में आकर एक दूसरे की बात समझने में गलतियां कर देते हैं। वैसे सामान्यतः, ऐसा होना ना के बराबर होता है। 

सम्बन्ध युक्तियाँ (निष्कर्ष or Conclusion)

तुला और धनु राशि अनुकूलता (Libra and Sagittarius Compatibility in Hindi) बेहद संतुलित और बजबूत होती है।  यह राशियाँ बहुत अच्छे रिश्ते में साथ रहकर जीवन यापन करते हैं। अपने पूरे रिश्ते के दौरान ये लोग कई मुस्किलो या कठिनाइयों का सामना कर सकते हैं और इसके पीछे उनका अपना अहंकार या ध्यान की कमी सबसे अहम् रहती है। हालाँकि, दोनों के बीच बातचीत में गहरा सामंजस्य होने की वजह से कठिनाइयों को बातचीत के माध्यम से सुलझाना काफी सरल रहता है।

Disclaimer: यहाँ दी गयी जानकारी सामान्य मान्यताओं और पहले से मौजूद ऑनलाइन जानकारी पर आधारित है, DVSamachar इसकी पुष्टि नहीं करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *